टीएमयू में होगा दो दिनी एजुकेशन कॉन्क्लेव.2021

एफओईसीएस की शिक्षा संगोष्ठी में 28 फरवरी से जुटेंगे दो एमएलसी समेत दर्जनों शिक्षाविद्

@ chaltefirte.com                                    मुरादाबाद।तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति.2020 पर मंथन को लेकर दर्जनों शिक्षाविद् शिरकत करेंगे। फैकल्टी ऑफ़ इंजीनियरिंग एंड कंप्यूटिंग साइंसेज. एफओईसीएस की ओर से 28 फरवरी से दो दिनी आयोजित इस संगोष्ठी में एमएलसी डॉ जयपाल सिंह व्यस्त और एमएलसी डॉ हरि सिंह ढिल्लों बतौर मुख्य अतिथि जबकि डीआईओएस  प्रदीप कुमार द्विवेदी बतौर गेस्ट ऑफ़ ऑनर शामिल होंगे। यूनिवर्सिटी के प्रेक्षागृह में राष्ट्रीय शिक्षा नीति.2020 के विभिन्न पहलुओं, शिक्षा की सभी तक पहुँच, भागीदारी, गुणवत्ता युक्त शिक्षा, सर्व सुलभ शिक्षा और शिक्षण के प्रति जवाबदेही पर मंथन होगा। यह जानकारी देते हुए एफओईसीएस के निदेशक एवं जनरल कॉन्क्लेव कन्वीनर प्रो राकेश कुमार द्विवेदी ने बताया, कॉन्क्लेव में कुलाधिपति सुरेश जैन, जीवीसी मनीष जैन, एस्टीम्ड मेंबर ऑफ़ टीएमयू सोसाइटी अक्षत जैन, वीसी प्रो रघुवीर सिंह, रजिस्ट्रार डॉ आदित्य शर्मा आदि की भी गरिमामयी मौजूदगी रहेगी। कॉन्क्लेव में मुरादाबाद मंडल के करीब 200 प्राचार्यों को आमंत्रित किया गया है।

टीएमयू के ऑडी में 28 फरवरी को प्रातः 10.30 बजे कॉन्क्लेव का माँ सरस्वती की वंदना और दीप प्रज्ज्वलन के साथ शंखनाद होगा। एक कदम आत्मनिर्भर भारत की ओर का उद्देश्य लेकर इस शिक्षा संगोष्ठी में जाने.माने शिक्षाविद एवं एमएलसी डॉ जयपाल सिंह व्यस्त और एमएलसी डॉ हरि सिंह ढिल्लों नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के महत्व पर प्रकाश डालेंगे। इससे पूर्व सभी अतिथियों का बुके देकर स्वागत किया जाएगा। अंत में अतिथियों को स्मृति चिन्ह भी दिए जाएंगे। प्रो द्विवेदी ने बताया, यह एजुकेशन कॉन्क्लेव छात्र.छात्राओं को आत्मनिर्भर बनाने, उनका आत्मविश्वास बढ़ाने और उनकी आत्मानुभूति की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। कॉन्क्लेव का उद्देश्य शैक्षिक ढांचे में संरचनात्मक बदलाव के प्रति जागरूकता पैदा करना और इसके क्रियान्वयन में ध्यान केंद्रित करना है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति में सुझाए गए पाठ्यक्रम एवं शैक्षिणक सुझावों के विश्लेषण के साथ.साथ देश के शैक्षिक ढांचे में शिक्षार्थियों, टीचर्स और समाज में नीति क्रियान्वयन की भूमिका पर भी व्यापक चर्चा होगी। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के पीछे निहित सिद्धांतों, गुणों और उनके समावेश पर भी मंथन होगा। कॉन्क्लेव का उद्देश्य मल्टीडिसिप्लिनरी एजुकेशन, टीचर एजुकेशन, वोकेशनल एजुकेशन और एजुकेशन में टेक्नोलॉजी के रोल पर व्यापक चर्चा करना है। कॉन्क्लेव कन्वीनर नेहा आनंद, कोऑर्डिनेटर  राहुल विश्नोई और सेकेट्री अंकित शर्मा ने बताया, सेकंड्री एजुकेशन और हायर एजुकेशन में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति क्या योगदान होगा, करिकुलम में इसे कैसे इंप्लीमेंट किया जा सकता है और आने वाले चैलेंजेज से कैसे निपटा जाएगा, इन सवालों पर जाने.माने शिक्षाविद अपना नज़रिया प्रस्तुत करेंगे।

 

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.