विकास कार्यों से नहीं होगा समझौता:सुमित कुमार सिंह

अनूप नारायण सिंह

पटना।बिहार के युवाओं को हुनरमंद बनाना पहला लक्ष्य है यह बात बिहार के नवनियुक्त विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री सुमित कुमार सिंह ने कहा। इस सन्दर्भ में विभाग के अधिकारियों के साथ बैठक की जाएगी तथा विभाग द्वारा जो भी योजनाएं चलाई जा रही हैं उसकी समीक्षा के उपरांत यदि उसमें कोई त्रुटि होगी तो उसे दूर किया जाएगा।सुमित कुमार ने कहा कि जो जिम्मेदारी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने दी है उसका निर्वाहन पूरी ईमानदारी के साथ करूंगा।सभी कॉलेजों की समीक्षा की जा रही है। हमारी कोशिश है कि हर बेहतर सुविधा छात्रों को उपलब्ध कराई जाए। बिहार के छात्र इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने दूसरे राज्य में जाते हैं जबकि यहां पर मुफ्त शिक्षा दी जा रही है यह विचारणीय है कि इस तरह के समस्याओं को कैसे दूर किया जाय।कोई नई योजना शुरू करनी हो या पुरानी योजना में बदलाव तो हम बेहिचक करेंगे।जो जिम्मेदारी मिली है उसपर पूरी तरीके से खड़ा उतरेंगे। युवाओं की बेहतरी के लिए हर संभव प्रयास करेंगें।जो भी सूचना मिलेगी उसपर कार्रवाई की जाएगी। यदि कोई सुझाव मीडिया या आम लोगों द्वारा दिया जाएगा तो उसपर भी काम किया जाएगा।उन्होंने कहा कि क्षेत्र की बरनार जलाशय योजना, अजय, घाघरा जलाशयों को दुरूस्त किया जाएगा। मुख्यमंत्री की सोच है कि युवाओं को रोजगार मिले, इसके लिए रोजगार के अवसर सृजित किये जायेंगे। प्लेसमेंट सेल की व्यवस्था की जाएगी। स्वास्थ्य सेवा को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे। जो विश्वास उन पर राज्य के मुखिया नीतीश कुमार और क्षेत्र चकाई की जनता ने जताया है उसे पूरा करने के लिए पूरा प्रयास करेंगे।उन्होंने कहा कि चकाई बनेगा चंडीगढ़ के सपने को साकार करने के लिए हर सार्थक पहल की जाएगी। इस दिशा में काम भी शुरू हो गया है। तीन महीने के भीतर 170 करोड़ की विकास योजना की स्वीकृति दी गयी है। शीघ्र ही इन योजनाओ का कार्य शुरू होगा। क्षेत्र का सर्वांगीण विकास ही हमारी प्राथमिकता है। सड़क, सिंचाई से लेकर स्वास्थ्य, शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने एवं नक्सलवाद, उग्रवाद जैसी समस्याओं को लेकर भी काम किया जाएगा।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.