दिल्ली के बाजार फिलहाल खुले रहेंगे

कैट ने प्रधानमंत्री  मोदी के हस्तक्षेप तथा गृह मंत्री अमित शाह द्वारा उठाये गए क़दमों की सराहना की

नई दिल्ली। दिल्ली के बाजार प्रधानमंत्री  नरेंद्र मोदी के प्रत्यक्ष हस्तक्षेप और दिल्ली के उपराजयपाल अनिल बैजल और मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के साथ बैठक के बाद गृह मंत्री अमित शाह द्वारा घोषित कदमों को देखते हुए फिलहाल खुले रहेंगे। हालाँकि, अगर कोरोना के कारण किसी बाजार में कोई चिंताजनक स्थिति बनती है तो  बाज़ार के विषय में दुकानों के खुलने या ओड -इवन व्यवस्था अथवा सप्ताह में  चार दिन खुलने और 3 दिन दुकाने बंद करने या एक दिन छोड़ कर एक दिन खोलने के बारे में स्थानीय व्यापारी संगठन निर्णय ले सकते हैं ! यह निर्णय दिल्ली के व्यापारी नेताओं की एक वीडियो कॉन्फ्रेंस में आज लिया गया जिसमें लगभग 275 व्यापारी नेता शामिल थे !

कैट के राष्ट्रीय महामंत्री  प्रवीन खंडेलवाल ने कहा की दिल्ली में बढ़ते कोरोना मामलों और मेडिकल परीक्षण की दयनीय स्थिति पर नियंत्रण के लिए  गृह मंत्री अमित शाह द्वारा उठाए गए कदमों से दिल्ली के व्यापारियों को बहुत उम्मीद है की जल्द ही दिल्ली में स्तिथि सुधरेगी ! राजधानी दिल्ली में स्वास्थ्य सुविधाओं की जबरदस्त किल्लत और इलाज़ से परेशां लोगों की स्थिति को देखते हुए कैट  ने गृह मंत्री अमित शाह, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल, शहरी विकास मंत्री  हरदीप पुरी और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को पत्र लिखकर उनसे  कोरोना के खिलाफ एक मजबूत चिकित्सा व्यवस्था करने का आग्रह किया था और व्यापारियों की परेशानियों से अवगत कराया था !

राष्ट्रीय महामंत्री  खंडेलवाल ने कहा कि पिछले 10 दिनों में दिल्ली की स्थिति बेहद चिंताजनक हो गई थी और ख़ास तौर पर जब दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने कहा की जुलाई तक दिल्ली में 5.32 लाख केस हो जायेंगे और उसको लेकर न केवल व्यापारियों में बल्कि आम लोगों में भी कोरोना को लेकर भय व्याप्त हो गया था !  खंडेलवाल ने संतोष व्यक्त किया कि प्रधान मंत्री  मोदी ने समय रहते हस्तक्षेप किया जिसके चलते गृह मंत्री शाह ने द्वारा संपर्क संक्रमण पर बारीक निगाह रखने, कोरोना परीक्षण को बढ़ाने के लिए घोषित कदम निश्चित रूप से फायदेमंद साबित होंगे और साथ ही केंद्र सरकार की संयुक्त देखरेख में अस्पताल और चिकित्सा सुविधाओं के बढ़ने से कोविड रोगियों के लिए सुविधाओं में तेजी आएगी।

राष्ट्रीय महामंत्री खंडेलवाल ने आगे कहा कि कुछ बाजारों ने 30 जून तक पूरी तरह से बंद करने का पहले ही फैसला लिया हुआ है, कुछ बाजार वैकल्पिक दिनों में काम कर हैं जबकि कुछ सप्ताह में 4 दिन काम करना चाहते हैं या ओड इवन को अपनाया हुआ है तथा प्रत्येक थोक या खुदरा बाजार में  ग्राहक प्रवाह के संदर्भ में अलग-अलग गतिशीलता है और प्रत्येक मार्केट कप अपने हिसाब से बाजार में सुरक्षा के उपाय अपनाने है, इस बात को ध्यान में रखते हुए प्रत्येक व्यापारी संगठन अपने बाजार की स्तिथि के हिसाब से समय से निर्णय लेगा !

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.