केजरीवाल सरकार के 26,000 करोड़ रुपये के घोटाले के खिलाफ भाजपा ने बनाई मानव श्रृंखला

जल बोर्ड के 26,000 करोड़ रुपये का हिसाब मांग रही है दिल्ली की जनता-आदेश गुप्ता

@ chaltefirte.com                           नई दिल्ली। केजरीवाल सरकार द्वारा दिल्ली जल बोर्ड में किए गए 26,000 करोड़ रुपये के घोटाले के खिलाफ भाजपा कार्यकर्ताओं ने कनाट प्लेस में विशाल मानव श्रृंखला बनाई। प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता के नेतृत्व में इस मानव श्रृंखला में भाजपा के हज़ारों कार्यकर्ताओं ने महिला, युवा और बुजुर्गों के साथ मिलकर केजरीवाल सरकार से 26,000 करोड़ का हिसाब मांगा है। इस दौरान भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय सचिव एवं दिल्ली की सह-प्रभारी डॉक्टर अलका गुर्जर और पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने भी कार्यकर्ताओं को संबोधित किया।

आदेश गुप्ता ने कहा कि पिछले 5 सालों में आम आदमी पार्टी की सरकार ने दिल्ली जल बोर्ड को खोखला कर दिया है और उसमें हर साल घाटा बढ़ता ही जा रहा है। पिछले पांच सालों में केजरीवाल सरकार ने जल बोर्ड को जो रुपये दिया है उसमें से 26,000 करोड़ रुपये का कोई हिसाब नहीं है। ये दिल्ली के कर दाताओं के रुपये हैं जिन रुपयों को आम आदमी पार्टी अपने राजनैतिक विस्तार में खर्च करने में लगी है। आम आदमी पार्टी पूरी दिल्ली के सामने अब बेनकाब हो चुकी हैं कि उसने किस तरह से दिल्ली जल बोर्ड को अपना सबसे बड़ा भ्रष्टाचार का अड्डा बनाया हुआ है।

आदेश गुप्ता ने कहा कि जब तक केजरीवाल 26,000 करोड़ रुपये का हिसाब नहीं देते तब तक भाजपा दिल्ली की जनता के हित में आवाज उठाती रहेगी। शर्म आती है ये सुनकर कि मुनाफा तो दूर दिल्ली जल बोर्ड को हर साल 3400 करोड़ रुपये लोन का ब्याज भी चुकाना पड़ रहा है।

भाजपा की राष्ट्रीय सचिव एवं दिल्ली की सह-प्रभारी डॉक्टर अलका गुर्जर ने कहा कि केजरीवाल अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए भाजपा द्वारा लगाए गए पोस्टर और होर्डिंग्स को अपने कार्यकर्ताओं और मंत्रियों द्वारा फड़वा रहे हैं, इससे उनके किए कारनामें पर पर्दा नहीं पड़ने वाला है। दिल्ली की जनता और कारोबारियों के रुपयों से वे दूसरे राज्यों में अपना प्रचार-प्रसार करवा रहे हैं, उन्हें जवाब देना पड़ेगा।

पूर्व केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता विजय गोयल ने कहा कि दिल्ली की सड़कों पर युवा, महिला और बुजुर्ग बड़ी तादाद में अपने भविष्य को बचाने के लिए और केजरीवाल सरकार के अब तक के सबसे बड़े घोटाले का हिसाब मांगने के लिए सड़कों पर आए हैं। दिल्ली में पीने के पानी और सीवरेज की व्यवस्था पहले से ज्यादा बदतर है, लेकिन खर्चा पहले से कई गुणा बढ़ा दिया गया है। आखिर यह पैसा कहां खर्च हो रहा है, इसका जवाब केजरीवाल सरकार को देना होगा।

 

Post add

Leave A Reply

Your email address will not be published.