Header Ads

शपथ से पहले मोदी ने किया शहीदों को नमन, बापू और अटलजी को दी श्रद्धांजलि


अभूतपूर्व जीत के बाद गुरुवार को नरेंद्र मोदी दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की शपथ लेंगे। इससे पहले आज सुबह वह दिल्ली के राजघाट पहुंचे और महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद उन्होंने सदैव अटल समाधि पर पहुंच कर पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की।
पीएम मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में बिमस्टेक राष्ट्रों समेत 14 देशों के प्रतिनिधि इस समारोह के साक्षी होंगे। पाकिस्तान का कोई नेता इस बार शामिल नहीं होगा। मोदी कैबिनेट में भाजपा और एनडीए के कुछ नए चेहरे हो सकते हैं, तो कई अनुभवी नेता फिर से साथ होंगे।
इस बार वित्त मंत्री अरुण जेटली मंत्रिमंडल का हिस्सा नहीं होंगे लेकिन भाजपा को रिकॉर्ड जीत दिलवाने वाले अमित शाह मंत्रिमंडल में शामिल हो सकते हैं। 2014 की तुलना में दोगुने जोश और जज्बे के साथ आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में विभिन्न क्षेत्रों की प्रमुख हस्तियों के साथ करीब साढ़े छह हजार लोगों के शामिल होने की संभावना है। मोदी के इस मेगा शो पर देश-दुनिया की निगाहें लगी हैं। 
वाजपेयी को दी श्रद्धांजलि
प्रधानमंत्री मोदी शपथ लेने से पहले सुबह अटल समाधि गए। वह यहां पर दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की। मोदी ने अपने निर्वाचन क्षेत्र काशी का भी पूरा ख्याल रखा है। उन्होंने शपथ ग्रहण समारोह में काशी विख्यात संकटमोचन मंदिर, रविदास मंदिर, अन्नपूर्णा मंदिर, गढ़वाघाट के महंत को आमत्रिंत किया है।
मंत्रियों पर मंथन
प्रधानमंत्री मोदी के साथ मंत्रिमंडल के सदस्य भी शपथ लेंगे। ऐसे में संभावित मंत्रियों  के नाम को लेकर दिनभर माथापच्ची चलती रही। भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और मोदी के बीच मंगलवार को करीब पांच घंटे की मैराथन बैठक हुई। शाह ने बुधवार को जदयू नेता और बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की। माना जा रहा है कि बैठक में जदयू के कोटे से केंद्र में बनने वाले संभावित मंत्रियों के नामों पर चर्चा हुई। 
अभूतपूर्व तैयारी
राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में कुर्सियों को ऐसे लगाया जाएगा जिससे सभी समारोह को साफ तौर पर देख सके 
कार्यक्रम के बाद चाय-नाश्ते की व्यवस्था की गई। 600 विशेष मेहमान राष्ट्रपति भवन में करेंगे नाश्ता
अभेद्य सुरक्षा
राष्ट्रपति भवन के आस-पास के सरकारी व निजी कार्यालयों में समय से पहले ही होगी छुट्टी 
संवेदनशील इमारतों की छतों पर स्नाइपर की तैनाती, अधिकृत व्यक्तियों के ही प्रवेश की इजाजत
संभावित बड़े नाम
पीयूष गोयल, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी स्मृति ईरानी, निर्मला सीतारमण बन सकते मंत्री
चुनाव नहीं लड़ने के कारण विदेशमंत्री  सुषमा स्वराज, उमा भारती को लेकर संशय की स्थिति
पहली बार क्या
बिम्सटेक के सभी छह सदस्यों देशों के राष्ट्राध्यक्ष अपनी उपस्थिति होंगे, कई देशों के प्रतिनिधि भी रहेंगे
भाजपा ने बंगाल में सियासी हिंसा में मारे गए अपने 54 कार्यकर्ताओं के परिजनों को न्योता दिया 
मुहूर्त
शाम सात बजे शपथ ग्रहण समारोह शुरू होग। ज्योतषियों के मुताबिक मोदी की कुंडली के अनुसार इस समय राजयोग। 
मेहमान
सभी राज्यों के राज्यपाल, मुख्यमंत्री, यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, अन्य दलों के प्रमुख नेता
2019 कैसे अलग
पिछली बार सार्क देशों के सदस्य के नाते पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ को आमंत्रित किया गया था। इस बार भार ने पाक पीएम इमरान खान को निमंत्रण नहीं दिया है। 
भाजपा 2014 में कांग्रेस के खिलाफ सत्ता विरोधी लहर के सहारे जीत दर्ज की थी। वहीं इस बार भाजपा अपने काम के साथ जनता के पास गई और पिछली बार से भी अधिक सीटें जीती। 
नंबर गेम
6 हजार से अधिक मेहमान होंगे शामिल 
29 राज्यों के राज्यपाल भी करेंगे शिरकत 
4वीं बार शपथ समारोह राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में

No comments