Header Ads

भाजपा संकल्प पत्र में राष्ट्रवाद अन्त्योदय और सुशासन का मूलमंत्र


भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए अपने पत्ते खोल दिए है। भाजपा मुख्यालय में आयोजित कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा अध्यक्ष अमित शाह और गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने लोकसभा चुनावों के लिए संकल्प पत्र जारी किया। संभवत दुनियां के इतिहास में यह पहला अवसर है जब किसी राजनीतिक दल ने यह दावा किया है की 6 करोड़ लोगों की भागीदारी के साथ यह संकल्प पत्र तैयार किया गया है। 12 कमेटियों ने संकल्प पत्र पूरा करने में अहम भूमिका निभाई।  300 रथ 7700 सुझाव पेटियां 110 संवाद कार्यक्रम आयोजित किये गए। कांग्रेस के घोषणा पत्र में सत्ता को हासिल करने के लिए मतदाताओं से लुभावने वादें किये गए है वहीँ भाजपा ने अपनी सत्ता को बरकरार रखने की घोषणाएं की है। दोनों की जन घोषणाओं का गहनता से अध्ययन करें तो पाएंगे कांग्रेस येन केन प्रकारेण देश की सत्ता पर एक बार फिर काबिज होने के प्रयास में है तो भाजपा उपलब्ध साधनों को साधने की बात कर रहा है। भारतीय जनता पार्टी कांग्रेस की न्याय योजना का कोई विकल्प नहीं तलाश सखी है। दो हाथों को काम देने की भी कोई स्पष्ट घोषणा नहीं की गई। हालाँकि अपने चुनावी संकल्प में समाज के विभिन्न वर्गों को राहत पहुँचाने की कई योजनाएं लागू  करने की घोषणा की गई है। यह तो चुनाव परिणाम ही बता पाएंगे की मतदाता इन संकल्पों कहाँ तक स्वीकार कर पाते है।  
 इस अवसर पर प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा की राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा है अन्त्योदय हमारा दर्शन है और सुशासन हमारा मंत्र है।  हमारी सरकार इन्हीं मूलमंत्रों पर चलकर भ्रष्टाचार का खत्म करेगी।  भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने पिछले पांच साल का लेखा जोखा  जनता के सामने रखा। शाह ने घोषणा की कि हम 75 बड़े संकल्पों के साथ चुनाव में जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि 2014 में भारत की अर्थव्यवस्था 11 वें नंबर पर थी आज हम दुनिया की छठी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था हैं और तेजी से 5वीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बनने के लिए अग्रसर हैं। बीजेपी अध्यक्ष ने कहा कि आज देश के अधिकांश घरों में बिजली है। 8 करोड़ से ज्यादा शौचालय हैं 7 करोड़ गरीबों के घर में गैस कनेक्शन दिये गये हैं 50 करोड़ गरीबों के लिए मुफ्त इलाज सुनिश्चित किया गया है।  देश की खुशहाली का यह सबसे बड़ा विजन है।  शाह ने कहा सरकार ने 5 साल में 50 से ज्यादा बड़े कदम उठाए हैं, जो इतिहास का हिस्सा बनने वाले हैं। 2022 में हम 75 संकल्प लेकर देश के सामने जा रहे हैं।  भाजपा ने अपने संकल्प पत्र का नाम संकल्पित भारत सशक्त भारत रखा है। इसकी थीम  130 करोड़ सपनों का नया भारत है।
संकल्प समिति के अध्यक्ष राजनाथ सिंह ने संकल्प पत्र की जानकारी दी। गरीबों को 72,000 रुपये सालाना देने के कांग्रेस के वादे के मद्देनजर भारतीय जनता पार्टी ने भी किसानों, व्यापारियों, युवाओं और महिलाओं से कई वादे किए हैं। संकल्प पत्र में राम मंदिर के निर्माण के संकल्प को भी फिर दोहराया गया है। राजनाथ सिंह ने बताया कि सौहार्दपूर्ण वातावरण में राम मंदिर के निर्माण की संभावनाएं तलाशी जाएंगी। संकल्प पत्र में किसान क्रेडिट कार्ड पर एक लाख रुपये तके के लोन पर शून्य फीसदी ब्याज दर की घोषणा की गई। एक साल तक के कृषि लोन पर 5 साल तक ब्याज नहीं।  देश के सभी किसानों को 6000 सालाना मिलेगा। 60 साल की उम्र के बाद देश के किसानों को पेंशन सुविधा सुलभ होगी। संकल्प पत्र में जनता से वादा किया गया है की 2022 तक किसानों की आय दोगुनी होगी।  देश के छोटे दुकानदारों को 60 वर्ष के बाद पेंशन देंगे। आतंकवाद के प्रति जीरो टोलरेंस की प्रतिबद्धता थी और रहेगी। भारत में क्षेत्रीय असंतुलन को पूरी तरह से खत्म करेंगे।  लैंड रिकॉर्ड का डिजिटाइजेशन किया जाएगा। राष्ट्रीय राजमार्ग बनाने की स्पीड तेज करने, 2024 तक देश भर में 200 हवाई अड्डे बनाने, कॉलेजों में सीटें बढ़ाने का वादा किया है। जीएसटी को और सरल किया जाएगा।  हर आदमी को पांच किलोमीटर में बैंक मिलेगा। जम्मू-कश्मीर से 35ए हटाने का प्रयास किया जाएगा।  मैंनेजमेंट, इंजीनियरिंग और लॉ कॉलेज सीटों की संख्या बढ़ाई जाएगी।  2020 तक देश की सभी रेल पटरियों का इलेक्ट्रिफिकेशन पूरा किया जाएगा। ट्रेंड डॉक्टर और जनता के बीच अनुपात को 1रू1400 किया जाएगा।  निर्यात को दोगुना करने की दिशा में कदम बढ़ाएंगे।  प्रत्येक व्यक्ति को 5 किमी तक बैंक सुविधा देने की कोशिश किया जाएगा। तीन तलाक के विरूद्ध कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने का प्रयास करेंगे। जम्मू-कश्मीर से 35ए हटाने का प्रयास किया जाएगा। मैंनेजमेंट, इंजीनियरिंग और लॉ कॉलेज सीटों की संख्या बढ़ाई जाएगी। 2020 तक देश की सभी रेल पटरियों का इलेक्ट्रिफिकेशन पूरा किया जाएगा। निर्यात को दोगुना करने की दिशा में कदम बढ़ाएंगे।  प्रत्येक व्यक्ति को 5 किमी तक बैंक सुविधा देने की कोशिश किया जाएगा।  तीन तलाक के विरूद्ध कानून बनाकर मुस्लिम महिलाओं को न्याय दिलाने का प्रयास करेंगे।
                                                                                                                       बाल मुकुन्द ओझा  

                                        

No comments